इन मासूमों की मौत का ज़िम्मेदार कौन?

इन मासूमों की मौत का ज़िम्मेदार कौन?

Excerpt: मुजफ्फरपुर जिला में चमकी बुखार से साल 2019 में पांच जुलाई तक 150 से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है.  स्वास्थ्य अधिसंरचना के मामले में बिहार की हालत चिंताजनक बनी हुई है. प्रति दस लाख की आबादी पर स्वास्थ्य केन्द्रों की संख्या साल 2012 में 109 थी जो कि 2018 में घटकर 99 रह गई है... Download
Read More
हस्तक्षेप (एडवोकेसी मैन्युअल)

हस्तक्षेप (एडवोकेसी मैन्युअल)

Excerpt: अगर आज हम अपने आप को सभ्यता के शिखर पर पाते हैं तो शायद सारा श्रेय उनको जाता है जिन्होंने समाज को नई दिशा प्रदान करने के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया. समाज में व्याप्त कुरीतियों और शोषण के ख़िलाफ़ ऐसे लोगों ने हमेशा अपनी आवाज़ बुलंद की है, शोषित वर्ग के पक्ष में शोषण करने वाली शक्तियों को चुनौतियाँ दी हैं. अतः एडवोकेसी कोई ऐसी चीज़ नहीं है जो कि नई हो या जिसे लोग जानते न हों, बस फ़र्क इतना है कि इस दौर में जनविरोधी ताक़तों ने अपना मायाजाल इस प्रकार फैला रखा है कि... Download
Read More
अभावों में रहने को मजबूर मदनमहल के विस्थापित

अभावों में रहने को मजबूर मदनमहल के विस्थापित

Excerpt: शहर के निर्माण और विकास में शहरी ग़रीब, मेहनतकश वर्ग का बड़ा योगदान होता है. इनके बिना शहरी विकास की कल्पना भी नहीं की जा सकती. मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान देने वाले इन्हीं मेहनतकश ग़रीबों की वर्षों की मेहनत से तिनका-तिनका जोड़ कर बनाए गए आशियानों पर जनवरी 2019 में जेसीबी के क्रूर पंजे का प्रहार हुआ और उन्हें शहर से लगभग 18 किमी दूर कचरा ढोने वाली गाड़ियों से कचरे की तरह ही फेंक दिया गया... Download
Read More
उत्तर प्रदेश में डिलीवरी वर्कर्स की स्थिति; लखनऊ – एक अध्ययन

उत्तर प्रदेश में डिलीवरी वर्कर्स की स्थिति; लखनऊ – एक अध्ययन

Excerpt: ई-कॉमर्स कंपनियों के बढ़ते व्यापार के साथ ही डिलीवरी वर्कर्स की मांग बढ़ती जा रही है. लखनऊ जैसे शहर में ही विभिन्न ई-कॉमर्स कंपनियों के दस हज़ार से भी ज्यादा डिलीवरी वर्कर्स काम कर रहे है. ये डिलीवरी वर्कर्स असंगठित क्षेत्र के मजदूरों की श्रेणी में आते है. ज़्यादातर कम्पनियाँ इन्हें थर्ड पार्टी के ज़रिये काम पर रखती हैं और यह उनके लिए किसी तरह की सामाजिक सुरक्षा के दायरे से बाहर होते हैं... Download
Read More
Children and law : An insight into the juvenile legal system of India

Children and law : An insight into the juvenile legal system of India

Excerpt: in India, despite of being the largest democracy in the world, judiciary is on the weaker edge. Laws are made and policies are formulated in order to make justice accessible to all, but due to lack of infrastructure and implementation, these laws and policies does not end up into something effective and fail to serve the society with needed solutions. Download
Read More
Cyber Crime; Being Mean Behind the Screen

Cyber Crime; Being Mean Behind the Screen

Excerpt: In the current era of online processing, maximum of the information is online and prone to cyber threats. There are a huge number of cyber threats and their behavior is difficult to early understanding hence difficult to restrict in the early phases of the cyber attacks. Cyber attacks may have some motivation behind it or may be processed unknowingly... Download
Read More
Halting the Hate – Social Responses to Restore the Harmony

Halting the Hate – Social Responses to Restore the Harmony

Excerpt: Hate crime‟ has not been defined in Indian jurisprudence and therefore it is handled the same way as that of a conventional crime ignoring the acute differences between the two. A hate crime is a conventional offense but with an added element of bias... Download
Read More
सलाख़ों के पीछे बचपन

सलाख़ों के पीछे बचपन

Excerpt: किशोरों को जेल में रखना किशोर न्याय की मूल भावना के खिलाफ है. किशोरों को वयस्कों के लिए बनाए जेल में रखा जाना किशोर न्याय अधिनियम का खुला उल्लंघन है. खुलेआम न केवल किशोरों को जेल में भेजा जा रहा है बल्कि ऐसी घटनाएँ दिनों-दिन बढ़ रही हैं. हालाँकि इसका कोई आधिकारिक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है कि प्रदेश की जेलों में कितने बच्चे बंद हैं लेकिन बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के 'बंदियों की स्थिति रिपोर्ट 2015' के मुताबिक प्रदेश की 58 जेलों में कुल 476 बच्चे बंद हैं... Download  
Read More
Trade and  Human Rights; RCEP, an Emerging Challenge

Trade and Human Rights; RCEP, an Emerging Challenge

Excerpt: RCEP is being negotiated in the shrouds of secrecy. There is no text available to the public and it raises suspicion. The general feeling in the past decade has moved against such trade agreements done to a number of reasons. There have been very few consultations with stakeholders... Download
Read More